Sunday, May 28, 2017

Photo from Prof.Raj Kumar Bhagat

Sunday, April 2, 2017

सतगुरु कबीर साहेब जी के अनमोल वचन।

|| दोहा || 

माँगन मरण समान है, मति माँगो कोई भीख ।
माँगन ते मारना भला, यह सतगुरु की सीख ॥

|| अर्थ ||

माँगना मरने के बराबर है, इसलिए किसी से भीख मत मांगो . सतगुरु कहते हैं कि मांगने से मर जाना बेहतर है, अर्थात पुरुषार्थ से स्वयं चीजों को प्राप्त करो, उसे किसी से मांगो मत

Friday, March 31, 2017

सतगुरु कबीर जी की बानी के महत्वपूर्ण अंश

मोको कहां ढूंढे रे बन्दे मैं तो तेरे पास में
ना तीरथ में ना मूरत में ना एकांत निवास में
ना मन्दिर में ना मस्जिद में ना काबे कैलास में
मैं तो तेरे पास में बन्दे मैं तो तेरे पास में
ना मैं जप मैं ना मैं तप में ना मैं बरत उपास में
ना में क्रिया करम में रहता नहिं जोग सन्यास में
नहिं पिंड में नहिं अंड में ना ब्रह्मांड आकाश में
ना मैं प्रकटी भंवर गुफा में सब स्वांसों की स्वांस में
खोजी होए तुंरत मिल जाऊ इक पल की तलाश में
कहत कबीर सुनो भई साधो मैं तो हूं विश्वास में
#संत_कबीर..
मतलब इ हैं कि भगवन् इश्वर कही नहि है अगर ये #परिभाषित कही पर है तो सभी इंसानो के भीतर विद्यमान है।
हे आस्तिकों इन्हें तलाशिए..
हे नास्तिकों इन्हें नकारिए..

Tuesday, March 21, 2017

सतगुरु कबीर जी की बानी के कुछ अनमोल वचन।

“ *लाडू लावन लापसी ,*
*पूजा चढ़े अपार*
*पूजी पुजारी ले गया,*
*मूरत के मुह छार !!* ”
– संत कबीर
(अर्थ – आप जो भगवान् के नाम पर मंदिरों में दूध, दही, मख्कन, घी, तेल, सोना, चाँदी, हीरे, मोती, कपडे, वेज़- नॉनवेज़ , दारू-शारू, भाँग, मेकअप सामान, चिल्लर, चेक, केश इत्यादि माल जो चढाते हो, क्या वह भगवान् तक जा रहा है क्या ?? आपका यह माल कितना % भगवान् तक जाता है ? ओर कितना % बीच में ही गोल हो रहा है ? या फिर आपके भगवान तक आपके चड़ाए गए माल का कुछ भी नही पहुँचता ! अगर कुछ भी नही पहुँच रहा तो फिर घोटाला कहाॅ हो रहा है ? ओर घोटाला कौन कर रहा है ? सदियों पहले दुनिया के इस सबसे बड़े घोटाले पर कबीर की नज़र पड़ी | कबीर ने बताया आप का यह सारा माल पुजारी ले जाता है ,और भगवान् को कुछ नहीं मिलता, इसलिए मंदिरों में दान करना बंद करो )
” *पाथर पूजे हरी मिले,*
*तो मै पूजू पहाड़ !*
*घर की चक्की कोई न पूजे,*
*जाको पीस खाए संसार !!* ”
– संत कबीर
” *मुंड मुड़या हरि मिलें ,सब कोई लेई मुड़ाय |*
*बार -बार के मुड़ते ,भेंड़ा न बैकुण्ठ जाय ||* ”
– संत कबीर
” *माटी का एक नाग बनाके ,*
*पुजे लोग लुगाया !*
*जिंदा नाग जब घर मे निकले,*
*ले लाठी धमकाया !!* ”
– संत कबीर
” *जिंदा बाप कोई न पुजे, मरे बाद पुजवाये* !
*मुठ्ठी भर चावल लेके, कौवे को बाप बनाय !!*
– संत कबीर
” *हमने देखा एक अजूबा ,मुर्दा रोटी खाए* ,
*समझाने से समझत नहीं ,लात पड़े चिल्लाये !!”*
– संत कबीर
” *कांकर पाथर जोरि के ,मस्जिद लई चुनाय* |
*ता उपर मुल्ला बांग दे, क्या बहरा हुआ खुदाय ||* ”
– संत कबीर
” *हिन्दू कहें मोहि राम पियारा* ,
*तुर्क कहें रहमाना ,*
*आपस में दोउ लड़ी-लड़ी मुए,*
*मरम न कोउ जाना ।* ”
– संत कबीर
(अर्थ : कबीर कहते हैं कि हिन्दू राम के भक्त हैं और तुर्क (मुस्लिम) को रहमान प्यारा है. इसी बात पर दोनों लड़-लड़ कर मौत के मुंह में जा पहुंचे, तब भी दोनों में से कोई सत्य को न जान पाया ।)
जाति_पर_कबीर जी _की_चोट
” *जाति ना पूछो साधू की, पूछ लीजिये ज्ञान* !
*मोल करो तलवार का, पड़ा रहन दो म्यान* !!
– संत कबीर
” *काहे को कीजै पांडे छूत विचार।*
*छूत ही ते उपजा सब संसार ।।*
*हमरे कैसे लोहू तुम्हारे कैसे दूध।*
*तुम कैसे बाह्मन पांडे, हम कैसे सूद(शुद्र)।।* ”
– संत कबीर
”कबीरा कुंआ एक हैं,
पानी भरैं अनेक ।
बर्तन में ही भेद है,
पानी सबमें एक ॥”
– कबीर
”एक क्ष ,एकै मल मुतर,
एक चाम ,एक गुदा ।
एक जोती से सब उतपना,
कौन बामन कौन शूद ”
– कबीर
कबीर_की_सबको_सीख बाकि_समझ_अपनी_अपनी
”जैसे तिल में तेल है,
ज्यों चकमक में आग I
तेरा साईं तुझमें है ,
तू जाग सके तो जाग II ”
– कबीर
मोको कहाँ ढूंढे रे बन्दे ,
मैं तो तेरे पास में।
ना मैं तीरथ में, ना मैं मुरत में,
ना एकांत निवास में ।
ना मंदिर में , ना मस्जिद में,
ना काबे , ना कैलाश में।।
ना मैं जप में, ना मैं तप में,
ना बरत ना उपवास में ।।।
ना मैं क्रिया करम में,
ना मैं जोग सन्यास में।।
खोजी हो तो तुरंत मिल जाऊ,
इक पल की तलाश में ।।
कहत कबीर सुनो भई साधू,
मैं तो तेरे पास में बन्दे…
मैं तो तेरे पास में…..
– कबीर.

Sunday, December 25, 2016

कबीर जी के दोहे / Kabir Ke Dohe

 बुरा जो देखन मैं चला, बुरा न मिलिया कोय,
जो दिल खोजा आपना, मुझसे बुरा न कोय।
अर्थ : जब मैं इस संसार में बुराई खोजने चला तो मुझे कोई बुरा न मिला. जब मैंने अपने मन में झाँक कर देखा 
तो पाया कि मुझसे बुरा कोई नहीं है

 पोथी पढ़ि पढ़ि जग मुआ, पंडित भया न कोय,
ढाई आखर प्रेम का, पढ़े सो पंडित होय।
अर्थ : बड़ी बड़ी पुस्तकें पढ़ कर संसार में कितने ही लोग मृत्यु के द्वार पहुँच गए, पर सभी विद्वान न हो सके. कबीर मानते हैं कि यदि कोई प्रेम या प्यार के केवल ढाई अक्षर ही अच्छी तरह पढ़ ले, अर्थात प्यार का वास्तविक रूप पहचान ले तो वही सच्चा ज्ञानी होगा.
 साधु ऐसा चाहिए, जैसा सूप सुभाय,
सार-सार को गहि रहै, थोथा देई उड़ाय।
अर्थ : इस संसार में ऐसे सज्जनों की जरूरत है जैसे अनाज साफ़ करने वाला सूप होता है. जो सार्थक को बचा लेंगे और निरर्थक को उड़ा देंगे.
तिनका कबहुँ ना निन्दिये, जो पाँवन तर होय,
कबहुँ उड़ी आँखिन पड़े, तो पीर घनेरी होय।
अर्थ : कबीर कहते हैं कि एक छोटे से तिनके की भी कभी निंदा न करो जो तुम्हारे पांवों के नीचे दब जाता है. यदि कभी वह तिनका उड़कर आँख में आ गिरे तो कितनी गहरी पीड़ा होती है !
धीरे-धीरे रे मना, धीरे सब कुछ होय,
माली सींचे सौ घड़ा, ॠतु आए फल होय।
अर्थ : मन में धीरज रखने से सब कुछ होता है. अगर कोई माली किसी पेड़ को सौ घड़े पानी से सींचने लगे तब भी फल तो ऋतु  आने पर ही लगेगा !
माला फेरत जुग भया, फिरा न मन का फेर,
कर का मनका डार दे, मन का मनका फेर।
अर्थ : कोई व्यक्ति लम्बे समय तक हाथ में लेकर मोती की माला तो घुमाता है, पर उसके मन का भाव नहीं बदलता, उसके मन की हलचल शांत नहीं होती. कबीर की ऐसे व्यक्ति को सलाह है कि हाथ की इस माला को फेरना छोड़ कर मन के मोतियों को बदलो या  फेरो.
जाति न पूछो साधु की, पूछ लीजिये ज्ञान,
मोल करो तरवार का, पड़ा रहन दो म्यान।
अर्थ : सज्जन की जाति न पूछ कर उसके ज्ञान को समझना चाहिए. तलवार का मूल्य होता है न कि उसकी मयान का – उसे ढकने वाले खोल का.
दोस पराए देखि करि, चला हसन्त हसन्त,
अपने याद न आवई, जिनका आदि न अंत।
अर्थ : यह मनुष्य का स्वभाव है कि जब वह  दूसरों के दोष देख कर हंसता है, तब उसे अपने दोष याद नहीं आते जिनका न आदि है न अंत.
जिन खोजा तिन पाइया, गहरे पानी पैठ,
मैं बपुरा बूडन डरा, रहा किनारे बैठ।
अर्थ : जो प्रयत्न करते हैं, वे कुछ न कुछ वैसे ही पा ही लेते  हैं जैसे कोई मेहनत करने वाला गोताखोर गहरे पानी में जाता है और कुछ ले कर आता है. लेकिन कुछ बेचारे लोग ऐसे भी होते हैं जो डूबने के भय से किनारे पर ही बैठे रह जाते हैं और कुछ नहीं पाते.
बोली एक अनमोल है, जो कोई बोलै जानि,
हिये तराजू तौलि के, तब मुख बाहर आनि।
अर्थ : यदि कोई सही तरीके से बोलना जानता है तो उसे पता है कि वाणी एक अमूल्य रत्न है। इसलिए वह ह्रदय के तराजू में तोलकर ही उसे मुंह से बाहर आने देता है.
अति का भला न बोलना, अति की भली न चूप,
अति का भला न बरसना, अति की भली न धूप।
अर्थ : न तो अधिक बोलना अच्छा है, न ही जरूरत से ज्यादा चुप रहना ही ठीक है. जैसे बहुत अधिक वर्षा भी अच्छी नहीं और बहुत अधिक धूप भी अच्छी नहीं है.
निंदक नियरे राखिए, ऑंगन कुटी छवाय,
बिन पानी, साबुन बिना, निर्मल करे सुभाय।
अर्थ : जो हमारी निंदा करता है, उसे अपने अधिकाधिक पास ही रखना चाहिए। वह तो बिना साबुन और पानी के हमारी कमियां बता कर हमारे स्वभाव को साफ़ करता है.
दुर्लभ मानुष जन्म है, देह न बारम्बार,
तरुवर ज्यों पत्ता झड़े, बहुरि न लागे डार।
अर्थ : इस संसार में मनुष्य का जन्म मुश्किल से मिलता है. यह मानव शरीर उसी तरह बार-बार नहीं मिलता जैसे वृक्ष से पत्ता  झड़ जाए तो दोबारा डाल पर नहीं
लगता.
कबीरा खड़ा बाज़ार में, मांगे सबकी खैर,
ना काहू से दोस्ती,न काहू से बैर.
अर्थ : इस संसार में आकर कबीर अपने जीवन में बस यही चाहते हैं कि सबका भला हो और संसार में यदि किसी से दोस्ती नहीं तो दुश्मनी भी न हो !
हिन्दू कहें मोहि राम पियारा, तुर्क कहें रहमाना,
आपस में दोउ लड़ी-लड़ी  मुए, मरम न कोउ जाना।
अर्थ : कबीर कहते हैं कि हिन्दू राम के भक्त हैं और तुर्क (मुस्लिम) को रहमान प्यारा है. इसी बात पर दोनों लड़-लड़ कर मौत के मुंह में जा पहुंचे, तब भी दोनों में से कोई सच को न जान पाया।

कहत सुनत सब दिन गए, उरझि न सुरझ्या मन.
कही कबीर चेत्या नहीं, अजहूँ सो पहला दिन.
अर्थ : कहते सुनते सब दिन निकल गए, पर यह मन उलझ कर न सुलझ पाया. कबीर कहते हैं कि अब भी यह मन होश में नहीं आता. आज भी इसकी अवस्था पहले दिन के समान ही है. 
              कबीर लहरि समंद की, मोती बिखरे आई.
बगुला भेद न जानई, हंसा चुनी-चुनी खाई.
अर्थ :कबीर कहते हैं कि समुद्र की लहर में मोती आकर बिखर गए. बगुला उनका भेद नहीं जानता, परन्तु हंस उन्हें चुन-चुन कर खा रहा है. इसका अर्थ यह है कि किसी भी वस्तु का महत्व जानकार ही जानता है।
           जब गुण को गाहक मिले, तब गुण लाख बिकाई.
जब गुण को गाहक नहीं, तब कौड़ी बदले जाई.
अर्थ : कबीर कहते हैं कि जब गुण को परखने वाला गाहक मिल जाता है तो  गुण की कीमत होती है. पर जब ऐसा गाहक नहीं मिलता, तब गुण कौड़ी के भाव चला जाता है.
                                                      कबीर कहा गरबियो, काल गहे कर केस.                                                    
 ना जाने कहाँ मारिसी, कै घर कै परदेस. 

अर्थ : कबीर कहते हैं कि हे मानव ! तू क्या गर्व करता है? काल अपने हाथों में तेरे केश पकड़े हुए है. मालूम नहीं, वह घर या परदेश में, कहाँ पर तुझे मार डाले.
                       पानी केरा बुदबुदा, अस मानुस की जात.
एक दिना छिप जाएगा,ज्यों तारा परभात.
अर्थ : कबीर का कथन है कि जैसे पानी के बुलबुले, इसी प्रकार मनुष्य का शरीर क्षणभंगुर है।जैसे प्रभात होते ही तारे छिप जाते हैं, वैसे ही ये देह भी एक दिन नष्ट हो जाएगी.
                                   हाड़ जलै ज्यूं लाकड़ी, केस जलै ज्यूं घास.
            सब तन जलता देखि करि, भया कबीर उदास.
अर्थ : यह नश्वर मानव देह अंत समय में लकड़ी की तरह जलती है और केश घास की तरह जल उठते हैं. सम्पूर्ण शरीर को इस तरह जलता देख, इस अंत पर कबीर का मन उदासी से भर जाता है. —
जो उग्या सो अन्तबै, फूल्या सो कुमलाहीं।
जो चिनिया सो ढही पड़े, जो आया सो जाहीं।
अर्थ : इस संसार का नियम यही है कि जो उदय हुआ है,वह अस्त होगा। जो विकसित हुआ है वह मुरझा जाएगा. जो चिना गया है वह गिर पड़ेगा और जो आया है वह जाएगा.
झूठे सुख को सुख कहे, मानत है मन मोद.
 खलक चबैना काल का, कुछ मुंह में कुछ गोद.
अर्थ : कबीर कहते हैं कि अरे जीव ! तू झूठे सुख को सुख कहता है और मन में प्रसन्न होता है? देख यह सारा संसार मृत्यु के लिए उस भोजन के समान है, जो कुछ तो उसके मुंह में है और कुछ गोद में खाने के लिए रखा है.
ऐसा कोई ना मिले, हमको दे उपदेस.
भौ सागर में डूबता, कर गहि काढै केस.
अर्थ : कबीर संसारी जनों के लिए दुखित होते हुए कहते हैं कि इन्हें कोई ऐसा पथप्रदर्शक न  मिला जो उपदेश देता और संसार सागर में डूबते हुए इन प्राणियों को अपने हाथों से केश पकड़ कर निकाल लेता.  —
संत ना छाडै संतई, जो कोटिक मिले असंत
 चन्दन भुवंगा बैठिया,  तऊ सीतलता न तजंत।
अर्थ : सज्जन को चाहे करोड़ों दुष्ट पुरुष मिलें फिर भी वह अपने भले स्वभाव को नहीं छोड़ता. चन्दन के पेड़ से सांप लिपटे रहते हैं, पर वह अपनी शीतलता नहीं छोड़ता.
 कबीर तन पंछी भया, जहां मन तहां उडी जाइ.
 जो जैसी संगती कर, सो तैसा ही फल पाइ.
अर्थ :कबीर कहते हैं कि संसारी व्यक्ति का शरीर पक्षी बन गया है और जहां उसका मन होता है, शरीर उड़कर वहीं पहुँच जाता है। सच है कि जो जैसा साथ करता है, वह वैसा ही फल पाता है.
तन को जोगी सब करें, मन को बिरला कोई.
सब सिद्धि सहजे पाइए, जे मन जोगी होइ.
अर्थ : शरीर में भगवे वस्त्र धारण करना सरल है, पर मन को योगी बनाना बिरले ही व्यक्तियों का काम है य़दि मन योगी हो जाए तो सारी सिद्धियाँ सहज ही प्राप्त हो जाती हैं.
कबीर सो धन संचे, जो आगे को होय.
सीस चढ़ाए पोटली, ले जात न देख्यो कोय.
अर्थ : कबीर कहते हैं कि उस धन को इकट्ठा करो जो भविष्य में काम आए. सर पर धन की गठरी बाँध कर ले जाते तो किसी को नहीं देखा.
 —
माया मुई न मन मुआ, मरी मरी गया सरीर.
आसा त्रिसना न मुई, यों कही गए कबीर .
अर्थ : कबीर कहते हैं कि संसार में रहते हुए न माया मरती है न मन. शरीर न जाने कितनी बार मर चुका पर मनुष्य की आशा और तृष्णा कभी नहीं मरती, कबीर ऐसा कई बार कह चुके हैं.
  
मन हीं मनोरथ छांड़ी दे, तेरा किया न होई.
 पानी में घिव निकसे, तो रूखा खाए न कोई.
अर्थ : मनुष्य मात्र को समझाते हुए कबीर कहते हैं कि मन की इच्छाएं छोड़ दो , उन्हें तुम अपने बूते पर पूर्ण नहीं कर सकते। यदि पानी से घी निकल आए, तो रूखी रोटी कोई न खाएगा.
 
जब मैं था तब हरी नहीं, अब हरी है मैं नाही |
सब अँधियारा मिट गया, दीपक देखा माही ||
अर्थ : जब मैं अपने अहंकार में डूबा था – तब प्रभु को न देख पाता था – लेकिन जब गुरु ने ज्ञान का दीपक मेरे भीतर प्रकाशित किया तब अज्ञान का सब अन्धकार मिट गया  – ज्ञान की ज्योति से अहंकार जाता रहा और ज्ञान के आलोक में प्रभु को पाया.
 
कबीर सुता क्या करे, जागी न जपे मुरारी |
एक दिन तू भी सोवेगा, लम्बे पाँव पसारी ||
अर्थ : कबीर कहते हैं – अज्ञान की नींद में सोए क्यों रहते हो? ज्ञान की जागृति को हासिल कर प्रभु का नाम लो.सजग होकर प्रभु का ध्यान करो.वह दिन दूर नहीं जब तुम्हें गहन निद्रा में सो ही जाना है – जब तक जाग सकते हो जागते क्यों नहीं? प्रभु का नाम स्मरण क्यों नहीं करते ?
 
आछे / पाछे दिन पाछे गए हरी से किया न हेत |
अब पछताए होत क्या, चिडिया चुग गई खेत ||
अर्थ : देखते ही देखते सब भले दिन – अच्छा समय बीतता चला गया – तुमने प्रभु से लौ नहीं लगाई – प्यार नहीं किया समय बीत जाने पर पछताने से क्या मिलेगा? पहले जागरूक न थे – ठीक उसी तरह जैसे कोई किसान अपने खेत की रखवाली ही न करे और देखते ही देखते पंछी उसकी फसल बर्बाद कर जाएं.
 
रात गंवाई सोय के, दिवस गंवाया खाय ।
हीरा जन्म अमोल सा, कोड़ी बदले जाय ॥
अर्थ : रात नींद में नष्ट कर दी – सोते रहे – दिन में भोजन से फुर्सत नहीं मिली यह मनुष्य जन्म हीरे के सामान बहुमूल्य था जिसे तुमने व्यर्थ कर दिया – कुछ सार्थक किया नहीं तो जीवन का क्या मूल्य बचा ? एक कौड़ी –
बड़ा हुआ तो क्या हुआ जैसे पेड़ खजूर।
पंछी को छाया नहीं फल लागे अति दूर ॥
अर्थ: खजूर के पेड़ के समान बड़ा होने का क्या लाभ, जो ना ठीक से किसी को छाँव दे पाता है और न ही उसके फल सुलभ होते हैं.  
 

Saturday, March 3, 2012

GREATEST ACHIEVEMENT OF BHAGAT MAHASABHA AS J&K STATE GOVT.HAS DECLARED STATE HOLIDAY ON 4TH JUNE 2012

GREATEST ACHIEVEMENT OF BHAGAT MAHASABHA AS J&K STATE GOVT.HAS DECLARED STATE HOLIDAY ON 4TH JUNE 2012
PROF.RAJ KUMAR BHAGAT
NATIONAL PRESIDENT
BHAGAT MAHASABHA
Holiday announced on prakash utsav of SadGuru Kabir sahib by the Hon’ble Dy. Chief Minister of J&K state, Sh. Tara Chand.
A wave of celebrations all over the state amongst jubilant Megh Samaj spread like a flash when prakash utsav of SadGuru kabir sahib was declared as Holiday by Hon’ble Dy. Chief Minister J&K state Sh. Tara Chandji.
prakash utsav of sadguru kabir sahib was declared as Holiday before a gathering of thousands of followers of SadGuru Kabirji by Hon’ble Dy. Chief Minister Sh. Tara Chand. This has been a prolonged and persistent demand of the Community and was appreciated by thousands of devotees/followers present on the occasions by chanting slogans and singing Bhajans repeatedly. Thousands of men, women, children, and young brigade of the Megh Samaj were jubilant on the occasion and praised the J & K Government for its gesture by accepting the demand.
For the last four years it has been continuous demand of the Bhagat Mahasabha J&K Unit to get the holiday declared on this occasion and ultimately aspirations of thousands of the followers are met with by the Government.
Megh Samaj had been struggling for declaration of Holiday on prakash utsav of SadGuru Kabir sahib ji since Independence. Many of the devotees have sacrificed their ripe age for struggling for the cause but because of one or the other reasons, the issue remained unattended. For the last four years it has been a consistent demand of the Bhagat Mahasabha, to declare Holiday on prakash utsav SadGuru Kabir sahib ji. All the members of the Megh Samaj throughout the length and breadth of the State had put their faith on Bhagat Mahasabha and had been gathering in thousands at Parade Ground Jammu every year waiting for this announcement. Today their struggle reached its zenith and aspirations of all Megh community members have been fulfilled.
The Bhagat Mahasabha J&K Unit on behalf of the Megh Community thanked the Government especially Hon’ble Deputy Chief Minister J&K State Sh. Tara Chand for his contribution towards declaration of holiday on prakash utsav of SadGuru Kabir sahib(which is falling on 4th june of this year) as he has taken keen interest for the cause and got this day declared as holiday. It was re-iterated by the speakers on the occasion to follow the path shown by Sadh Guru Kabirji and spread the message of his teachings which is need of the hour for re-storing peace and harmony in the society. It was also impressed upon the young ones to study as much about Sadh Guru Kabirji as they can for their mental and spiritual development.

Tuesday, June 28, 2011

613th Parkash Utsav celebrated at Majalta by Bhagat Mahasabha

Early Times Report
JAMMU, June 27: Bhagat Mahasabha, tehsil unit of Majalta celebrated 613th Parkash Utsav of Sadguru Kabir Sahib ji at Sadguru Kabir Mandir, Majalta with traditional fervor and gaiety.
On the occasion, hundreds of devotee from all over the Udhampur district participated. The speakers impressed upon the masses to follow the teachings of Sadguru Kabir Sahib ji in letter and spirit.
A satsang by swami Milkhi Ram Bhagat ji of Gorda and Swami Vijay Bhagat from Jalandhar on the life of Sadguru Kabir ji was also organized on the occasion. Swami ji impressed upon masses to inculcate the spiritual and moral values in the tender minds of kids, school going children and adults in order to free the society from evils like drug addiction, smoking, liqour consumption etc.
The speakers on the occasion highlighted the importance of this occasion and demanded Gazetted Holiday on Kabir Jayanti. It was reiterated that .the state government should pay attention towards the genuine demand of lakhs of devotees of Sadguru Kabir Sahib Ji, majority of which are located in Jammu province and declare Holiday on this occasion of Sadguru Kabir Jayanti.